इमली की चटनी


इमली की चटनी बैनर

इमली की चटनी उत्तर भारत के क्षेत्र में बहुत प्रसिद्ध है। जो दही भल्ले, दही वड़ा, समोसा चाट जैसे भारतीय स्नैक्स के साथ अच्छी लगाती है। इसे समोसा, कचोरी, पानी पूड़ी और पकोड़ा के साथ भी परोसा जाता है। इस चटनी का मुख्य घटक इमली और गुड़ है। यह कम फैट और शाकाहारी चटनी है। यह चटनी सूखे अदरक पाउडर डालनेसे मसालेदार होती है।

इमली सूखे मेवा है जो स्वाद में खट्टा होता है और आयुर्वेद में इसका उपयोग कई बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। गर्भावस्था से संबंधित जी मिचलाने का इलाज करने के लिए महिलाओं में यह आम है। यह बच्चों को आंत में कीड़े के इलाज के लिए भी दिया जाता है।

यह टैंगी चटनी बनावट में गाढ़ी होती है। सूखी अदरक पाउडर और लाल मिर्च पाउडर की गर्माहट के साथ मिलाई गई इमली की मिठास के साथ इमली का खट्टापन संतुलित होता है।

चलिए देखते हैं इमली की चटनी कैसे बनाएं...

तैयारी का समय: 10 मिनट

पकाने का समय: 10 मिनट

मात्रा: 1.25 कप

स्वाद: मीठी और खट्टी 

अगर आपको खट्टी और तीखी चटनी पसंद है तो आप टमाटर की चटनी और कच्चे आम की चटनी ट्राय करे

आवश्यक सामग्री

सूखा मसाला

  • जीरा पाउडर
  • लाल मिर्च पाउडर
  • सूखी अदरक पाउडर
  • काला नमक
  • नमक
  • गुड़
  • खानेका तेल
आवश्यक सामग्री

इमली की चटनी कैसे बनाएं / इमली की चटनी कैसे बनाते हैं?

step 1

१ कप बीज रहित इमली को पानी में, रात भर या ४-५ घंटे के लिए भिगो दें।

step 2

अपने हाथों से, एक ही कटोरे या पैन में इमली से गूदा निचोड़ें। गूदे को छान ले और एक तरफ रख दें।

step 3

एक छोटे पैन में १ चम्मच तेल गरम करें। सबसे पहले १/२ चम्मच जीरा को भूनें। फिर मसाला डाले - १/२ चम्मच सूखा अदरक पाउडर, १ चम्मच लाल मिर्च पाउडर डालें।

step 4

ये सब मिला ले और फिर छाना हुआ इमली का गूदा डाले। २-३ मिनट के तक पकाएं।

step 5

बादमे १ कप गुड़, १/२ चम्मच नमक, १/२ चम्मच काला नमक डालें और ४-५ मिनट तक और पकाएँ। जब तक कि इमली की चटनी मिश्रण थोड़ा गाढ़ा न हो जाए।

step 6

ठंडा होने पर इमली की चटनी को किसी एयर-टाइट सूखे जार या कंटेनर में स्टोर करें।

step 7

 फ्रिज करें और जब भी आवश्यकता हो तब परोसें।

विशेष टिप्पणियाँ 

  • आप आवश्यक मिठास के अनुसार गुड़ की मात्रा बढ़ा सकते हैं।
  • यदि आप अधिक तीखा बनाना चाहते हैं, तो लाल मिर्च पाउडर की मात्रा बढ़ा दें।
  • अगर आपको सौंफ का स्वाद पसंद है तो सौंफ को भूनकर पाउडर बना लें। चटनी  बनाते समय इस चटनी में १/२ चम्मच पाउडर डालें।
  • आप अपनी आवश्यकता के अनुसार पानी मिला सकते हैं। अगर आपको पतली चटनी चाहिए तो बनाते समय इस चटनी में और पानी मिलाएं।
  • अगर गुड़ घर पर उपलब्ध नहीं है तो आप इस चटनी में चीनी मिला सकते हैं। चीनी की मात्रा, चीनी की मिठास और चटनी में आवश्यक मिठास पर निर्भर करती है। अगर आप गुड़ की जगह चीनी का इस्तेमाल करेंगे तो स्वाद अलग होगा।
कच्चा आम और चना दाल चटनी

इमली की चटनी में व्हेरीएशंस

चटनी ब्लेंड करते समय गुड़ की जगह हम इसमें भीगे हुए खजूर डाल सकते हैं।

इमली की चटनी  कैसे संरक्षित करें?

यह गीली चटनी है। आप इस चटनी को एक साफ कांच के जार में स्टोर करके फ्रिज में रख सकते हैं। इस चटनी की एक लंबी शैल्फ लाइफ है।

इमली की चटनी कैसे परोसें?

  • यह चटनी भारतीय चाट के साथ बहुत प्रसिद्ध है।
  • यह चटनी समोसा, कचोरी, ढोकला, आलू टिक्का जैसे भारतीय स्नैक्स के साथ अच्छी लगती है।
  • इस चटनी को चाट यानी भेल के साथ मिलाकर लोगों को परोसा जाता है। चूँकि यह चटनी भेल में मीठा और खट्टा स्वाद जोड़ती है।
  • यह दही भेल या दही बडे पर भी डाली जाती है जो मीठा और खट्टा स्वाद देता है।
  • यह रगड़ा पट्टिस, समोसा चाट, कचोरी चाट पर भी डाली जाती है।
Dhokala
pani puri
Bhel

इमली के फायदे

  • कैंसर से लड़ती है।
  • पाचन में सुधार लती है।
  • मधुमेह का प्रबंधन करने में मदद करती है।
  • वजन कम करने में मदद करती है।
  • अल्सर से बचाती है।
  • खांसी, सर्दी और दमा का इलाज करती है।
  • घावों को भरने में मदद करती है।
  • जिगर की रक्षा करती है।
  • मुँहासे ठीक करती है।
  • बालों के झड़ने को रोकती है।
  • एंटीसेप्टिक के रूप में काम करती है।
  • कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करती है।
  • गर्दन से कालेपन दूर करती है।
  • प्राकृतिक एंटी-एजिंग एजेंट है।
  • त्वचा को फेयर करती है।

इमली से नुकसान

अधिक मात्रा में कुछ भी खाना स्वास्थ्य के लिए खराब है।

कृपया, इमली के विस्तृत नुकसान के लिए लिंक पर जाएं, यहां क्लिक करें।

इमली की विभिन्न रेसिपी

  • इमली चावल
  • इमली का सूप
  • इमली की सब्जी
  • खट्टे स्वाद को जोड़ने के लिए सांबर में इमली का उपयोग किया जाता है
  • इमली का सॉस

इस चटनी के साथ मेरा अनुभव

भारतीय स्नैक्स जैसे पानी पुरी, दही भल्ला / दही बड़े, भेल, समोसा चाट, रागडा पटटी, आदि बच्चों के बीच बहुत प्रसिद्ध हैं। यहां तक कि मेरे बच्चे भी इन चाट को बहुत पसंद करते हैं। इसलिए एक स्वास्थ्य के प्रति जागरूक माँ होने के नाते, इन स्नैक्स को बाहर खाने के बजाय, मैं इन स्नैक्स को घर पर बनाना पसंद करती हूँ। तो, इमली की चटनी इन स्नैक्स में एक अपरिहार्य साइड डिश है। मेरा फ्रीज़ में हमेशा इमली की चटनी का जार होता है।

इस बीच, मेरे बच्चों को भी अपने मीठे और खट्टे स्वाद के लिए उंगलियों से इसका स्वाद लेना बहुत पसंद है। यह मुझे मेरे बचपन की यादें याद दिलाता है। जब मैं स्कूल जाती थी तब इमली मेरी सबसे पसंदीदा थी । मैं इसे स्कूलों के पास छोटे स्टालों से खरीदती थी। जब मुझे इमली खाने की इच्छा होती है, तो मैं हमेशा अपने बच्चों के साथ इस मिठी और खट्टी चटनी के साथ अपनी उंगलियों को चाटती हूं।

FAQ

इमली के दुष्प्रभाव क्या हैं?

क्या इमली स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है?

क्या इमली पेट की चर्बी कम कर सकती है?

जब आप बहुत ज्यादा इमली खाते हैं तो क्या होता है?

क्या इमली मूत्र संक्रमण के लिए अच्छा है?

इमली की चटनी कैसे बनती है?

निष्कर्ष


इमली की चटनी अपने मीठे और खट्टे स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। भारतीय स्नैक्स इससे अछूता है। आप जरूर इसे खाकर देखे और इसे शेयर करें।


Happy Cooking...

#इमलीकीचटनी #इमलीकीचटनीकैसेबनाएं #इमलीकीचटनीकैसेबनातेहैं #इमलीकीचटनीकैसेबनतीहै #Tamarindchutney #imlichutney #imlikikhattimeethichutney #spicytamarindchutneyrecipe #sweetandsourchutney #sweetchuteny #sourchutney #dahibhallechutney #panipurichutney #samosachutney #chaatchutney #khattimeethichutney #chutneyrecipe #chutneyandpickle


Leave a Comment: